Sunday, December 18, 2016

Movement 2017 -invitation and call for abstracts

If you received this mail by mistake, please unsubscribe me from this list -

Dear colleagues,

I am honored to  invite you to attend the world conference on Movement sponsored, in part, by the Harvard University School of Medicine’s Spaulding Rehabilitation Hospital, the M.I.N.D. Institute at M.I.T., the Hebrew University of Jerusalem, the Wingate Institute for Sports and Exercise Science, the National Institute for Brain and Rehabilitation Sciences, Nazareth, Israel, the Institute for Neurology and Neurosurgery, Havana, the University of the Medical Sciences Facultad ‘Manuel Fajardo’ Havana, the School of Public Health of the University of Havana, and Bielefeld University in Germany.

The purpose of the conference is to share knowledge of all those whose interests lie in the nature of human movement. The conference will address issues related to gait, motion, kinesiology, disorders of movement, movement rehabilitation, motion and balance, movement and cognition, human factors and ergonomics, as well as optimized movement in elite athletes, developmental issues of movement and coordination. Workshops on physiotherapy of movement impairment will also be provided.

The abstracts of the conference as well as selected principal papers will be proceedings and will be published in the journal Functional Neurology, Rehabilitation, and Ergonomics published by Nova Scientific publishers.

We welcome your participation in this event that addresses the relationship between movement and cognition and I personally welcome your enquiries and suggestions. In the meantime, please check out our website at: www.movementis.net

(Our mail: office@movementis.com)

Should you have any questions about the nature and form of the abstracts or pertaining to the larger papers, please connect with me at: g.leisman@alumni.manchester.ac.uk

I hope to meet each of you at Oxford University in July 2017

Wish very best wishes,

Gerry Leisman

Chair Scientific Committee, MOVEMENT 2017

Director, The National Institute for Brain and Rehabilitation Sciences, Nazareth, Israel

Professor, Human Factors and Rehabilitation Sciences

O.R.T.-Braude College of Engineering, Karmiel, Israel

Profesor de Neurología restaurativa

Universidad de Ciencias Médicas de la Habana

Facultad Manuel Fajardo, Havana, Cuba



Powered by  Hairyspire

Friday, July 1, 2016

Movement 2017 -invitation and call for abstracts

If you received this mail by mistake, please unsubscribe me from this list

Dear colleagues,

I am honored to  invite you to attend the world conference on Movement sponsored, in part, by the Harvard University School of Medicine’s Spaulding Rehabilitation Hospital, the M.I.N.D. Institute at M.I.T., the Hebrew University of Jerusalem, the Wingate Institute for Sports and Exercise Science, the National Institute for Brain and Rehabilitation Sciences, Nazareth, Israel, the Institute for Neurology and Neurosurgery, Havana, the University of the Medical Sciences Facultad ‘Manuel Fajardo’ Havana, the School of Public Health of the University of Havana, and Bielefeld University in Germany.

The purpose of the conference is to share knowledge of all those whose interests lie in the nature of human movement. The conference will address issues related to gait, motion, kinesiology, disorders of movement, movement rehabilitation, motion and balance, movement and cognition, human factors and ergonomics, as well as optimized movement in elite athletes, developmental issues of movement and coordination. Workshops on physiotherapy of movement impairment will also be provided.

The abstracts of the conference as well as selected principal papers will be proceedings and will be published in the journal Functional Neurology, Rehabilitation, and Ergonomics published by Nova Scientific publishers.

We welcome your participation in this event that addresses the relationship between movement and cognition and I personally welcome your enquiries and suggestions. In the meantime, please check out our website at: www.movementis.com  (Our mail: office@movementis.com)

Should you have any questions about the nature and form of the abstracts or ertaining to the larger papers, please connect with me at: g.leisman@alumni.manchester.ac.uk

I hope to meet each of you at Oxford University in July 2017

Wish very best wishes,

Gerry Leisman

Chair Scientific Committee, MOVEMENT 2017

Director, The National Institute for Brain and Rehabilitation Sciences, Nazareth, Israel

Professor, Human Factors and Rehabilitation Sciences

O.R.T.-Braude College of Engineering, Karmiel, Israel

Profesor de Neurología restaurativa

Universidad de Ciencias Médicas de la Habana

Facultad Manuel Fajardo, Havana, Cuba

Sunday, April 17, 2016

Movement 2017 -invitation and call for abstracts

If you received this mail by mistake, please unsubscribe me from this list

Dear colleagues,

I am honored to  invite you to attend the world conference on Movement sponsored, in part, by the Harvard University School of Medicine’s Spaulding Rehabilitation Hospital, the M.I.N.D. Institute at M.I.T., the Hebrew University of Jerusalem, the Wingate Institute for Sports and Exercise Science, the National Institute for Brain and Rehabilitation Sciences, Nazareth, Israel, the Institute for Neurology and Neurosurgery, Havana, the University of the Medical Sciences Facultad ‘Manuel Fajardo’ Havana, the School of Public Health of the University of Havana, and Bielefeld University in Germany.

The purpose of the conference is to share knowledge of all those whose interests lie in the nature of human movement. The conference will address issues related to gait, motion, kinesiology, disorders of movement, movement rehabilitation, motion and balance, movement and cognition, human factors and ergonomics, as well as optimized movement in elite athletes, developmental issues of movement and coordination. Workshops on physiotherapy of movement impairment will also be provided.

The abstracts of the conference as well as selected principal papers will be proceedings and will be published in the journal Functional Neurology, Rehabilitation, and Ergonomics published by Nova Scientific publishers.

We welcome your participation in this event that addresses the relationship between movement and cognition and I personally welcome your enquiries and suggestions. In the meantime, please check out our website at: www.movementis.net  (Our mail: office@movementis.com)

Should you have any questions about the nature and form of the abstracts or ertaining to the larger papers, please connect with me at: g.leisman@alumni.manchester.ac.uk

I hope to meet each of you at Oxford University in July 2017

Wish very best wishes,

Gerry Leisman

Chair Scientific Committee, MOVEMENT 2017

Director, The National Institute for Brain and Rehabilitation Sciences, Nazareth, Israel

Professor, Human Factors and Rehabilitation Sciences

O.R.T.-Braude College of Engineering, Karmiel, Israel

Profesor de Neurología restaurativa

Universidad de Ciencias Médicas de la Habana

Facultad Manuel Fajardo, Havana, Cuba

Tuesday, February 7, 2012

सत्यम, शिवम् सुन्दरम

महान दार्शनिक सुकरात को एक बार उनके परिचित ने कहा, "क्या आप जानते हैं, आपका मित्र आपके बारे में क्या कह रहा है?"
सुकरात कुछ क्षण सोच कर बोले,"एक मिनट रुको! तुम मेरे मित्र के बारे में जो बताने जा रहे हो, क्या वह पूर्णतया सत्य है?"
'नहीं वास्तव में ऐसा मैंने सुना है...' वह परिचित बोले.

"अच्छा तो तुम नहीं जानते कि वह सत्य है भी नहीं...लेकिन जो तुम बताने जा रहे हो क्या वह प्रिय है? सुकरात ने पूछा.
'नहीं, इसके विपरीत है!' परिचित बोले.
'ठहरो, तुम मेरे बारे में कुछ बुरा बताने जा रहे हो, वह न सत्य है, न प्रिय है, कोई नहीं कम से कम वह मेरे लिए लाभकारी तो होगा' सुकरात ने जानना चाहा.
'नहीं, बिल्कुल नहीं...."परिचित बोले.

इसके बाद सुकरात ने कहा,'जो न सत्य है, न प्रिय है और न ही शुभ एवं लाभकारी है, तुम उसे क्यों बताना चाहते हो?'
वह परिचित व्यक्ति पूरी तरह निरुत्तर रह गया. "सत्यम, शिवम् सुन्दरम " का यह सुन्दर उदाहरण आज मुझे एक समाचार पत्र से प्राप्त हुआ है. 

राजनीति किस दिशा में लेकर जा रही है भारत को

राजनीति किस दिशा में लेकर जा रही है भारत को यह समझना आज के हालात में बेहद मुश्किल है. ऐसे समय में जब भ्रष्टाचार के विरुद्ध पूरे भारत में आन्दोलन चल रहे हैं, कांग्रेस की साख बुरी तरह गिरी है, यह सोचना विचारणीय हो जाता है कि उसके बाद भी विपक्षी दलों के मत प्रतिशत में कोई लंबा चौड़ा बदलाव नहीं दिख रहा है. बुरी तरह अंदरूनी कलह से परेशान भाजपा तो किसी भी जगह पर अपने लिए एक सर्वमान्य नेता तक नहीं तैयार कर पा रही है. जहाँ सभी सर्वेक्षण नरेंद्र भाई मोदी को भाजपा की और से सर्वदा पसंदीदा उम्मीदवार दिखा रहे हैं वहीँ भाजपा किसी भी राज्य में उन्हें लेकर जाने की भी हिम्मत नहीं कर रही है. भले ही इस समय पर यह कहना अनुचित होगा कि कौन अगला प्रधानमन्त्री होगा, पर फिर भी एक भी पार्टी यह दावा नहीं ठोक सकती कांग्रेस के अलावा कि उनका आने वाला प्रधानमन्त्री पद का दावेदार कौन होगा. जहाँ तक कांग्रेस की बात है वहां गाँधी परिवार का एक छत्र राज है. जोकि आज से नहीं अपितु पिछले साठ वर्षों से अधिक समय से है. उसके पास राहुल गाँधी के रूप में सहज उम्मीदवार है; हालांकि समूचे गाँधी परिवार में सबसे कम लोक प्रिय और सबसे कम करिश्माई नेता की उनकी छवि को तोड़ने का पार्टी भरसक प्रयास कर रही है पर वे चूँकि कहीं भी अपेक्षित सफलता अर्जित नहीं कर पा रहे हैं इसलिए उनके करिश्मे पर प्रश्न चिह्न लगना तो अवश्यम्भावी है. विपक्ष की मुसीबत उन सरकारों ने बढ़ा रखी हैं जहाँ गैर कांग्रेस सरकारें हैं. लगभग सभी ऐसे राज्यों में अगले लोकसभा चुनावों से पहले चुनाव हैं और वहां सरकार विरोधी लहर से कांग्रेस को राष्ट्रीय स्तर पर फायदा स्पष्ट रूप से होगा. जहाँ समूची कांग्रेस राहुल गाँधी के लिए लगभग एक मत है, कोई भी अन्य पार्टी किसी भी एक उम्मीदवार को लेकर एक मत नहीं बना रही है. वोटरों की चुप्पी सबका खेल अलग से बिगाड़ रही है. जहाँ अधिक मतों का प्रतिशत पहले सरकार विरोध का परिचायक माना जाता था वहीँ बिहार के चुनावों ने इस मिथक की धज्जियां उड़ा दी. राजनैतिक पार्टियाँ अपनी पूरी बुद्धि का इस्तेमाल करके भी पूरी तरह सही स्थिति नहीं बना पा रही हैं. सही मायने में इस समय यदि कोई विपक्ष है वह है माननीय न्यायालय. अपने अनेकों एतिहासिक निर्णयों के साथ पिछले दो वर्ष न्यायिक सक्रियता के लिए ऐसे ही जाने जायेंगे जैसे इमरजेंसी के समय के वर्ष जाने जाते हैं. पर न्यायालय का सरकार के ऊपर हावी होना हमारे राजनैतिक तंत्र की कमजोरी का परिचायक है क्योंकि कोई भी नीतिगत निर्णय न्यायालय के हस्तक्षेप के बिना पूरा नहीं हो पा रहा है. ऐसे में जनता नेताओं के बारे में बुरा न सोचे तो क्या करे. परिवर्तन और साफ़ सुथरी सरकार के नाम पर वोट मांगती भाजपा जहाँ उत्तर प्रदेश में अपने अभियान का प्रारंभ बाबु लाल कुशवाहा से करती है वहीँ अकालियों के तथाकथित गुंडाराज के विरोध में वोट मांगती कांग्रेस पंजाब में कत्ले आम की बात करती है. एक बेहद कठिन परिस्थिति से गुजर रही भारत की राष्ट्रीय राजनीति को कोई करिश्माई नेतृत्व की पुरजोर तरकार है!

Sunday, December 11, 2011

Hope is the thing with Feathers/Emily Dickinson

Hope is the thing with feathers
That perches in the soul,
And sings the tune without the words,
And never stops at all,

And sweetest in the gale is heard;
And sore must be the storm
That could abash the little bird
That kept so many warm.

I've heard it in the chilliest land
And on the strangest sea;
Yet, never, in extremity,
It asked a crumb of me.

Thursday, October 27, 2011

ढीली करो धनुष की डोरी – रामधारी सिंह "दिनकर"


राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की यह महान रचना सोचने पर मजबूर करती है. यह रचना आजादी के सात वर्ष के बाद लिखी गयी थी. इसमें श्री दिनकर की व्यथा स्पष्ट है. इसे उन्होंने उस समय व्याप्त भ्रष्टाचार से त्रस्त होकर लिखा था. इसे पढ़ें एवं सोचें...जय हिंद.

ढीली करो धनुष की डोरी, तरकस का कस खोलो ,
 किसने कहा, युद्ध की वेला चली गयी, शांति से बोलो?
किसने कहा, और मत वेधो ह्रदय वह्रि के शर से,
भरो भुवन का अंग कुंकुम से, कुसुम से, केसर से?

कुंकुम? लेपूं किसे? सुनाऊँ किसको कोमल गान?
तड़प रहा आँखों के आगे भूखा हिन्दुस्तान ।

फूलों के रंगीन लहर पर ओ उतरनेवाले !
ओ रेशमी नगर के वासी! ओ छवि के मतवाले!
सकल देश में हालाहल है, दिल्ली में हाला है,
दिल्ली में रौशनी, शेष भारत में अंधियाला है ।

मखमल के पर्दों के बाहर, फूलों के उस पार,
ज्यों का त्यों है खड़ा, आज भी मरघट-सा संसार ।

वह संसार जहाँ तक पहुँची अब तक नहीं किरण है
जहाँ क्षितिज है शून्य, अभी तक अंबर तिमिर वरण है
देख जहाँ का दृश्य आज भी अन्त:स्थल हिलता है
माँ को लज्ज वसन और शिशु को न क्षीर मिलता है

पूज रहा है जहाँ चकित हो जन-जन देख अकाज
सात(साठ) वर्ष हो गये राह में, अटका कहाँ स्वराज?

अटका कहाँ स्वराज? बोल दिल्ली! तू क्या कहती है?
तू रानी बन गयी वेदना जनता क्यों सहती है?
सबके भाग्य दबा रखे हैं किसने अपने कर में?
उतरी थी जो विभा, हुई बंदिनी बता किस घर में

समर शेष है, यह प्रकाश बंदीगृह से छूटेगा
और नहीं तो तुझ पर पापिनी! महावज्र टूटेगा

समर शेष है, उस स्वराज को सत्य बनाना होगा
जिसका है ये न्यास उसे सत्वर पहुँचाना होगा
धारा के मग में अनेक जो पर्वत खडे हुए हैं
गंगा का पथ रोक इन्द्र के गज जो अडे हुए हैं

कह दो उनसे झुके अगर तो जग मे यश पाएंगे
अड़े रहे अगर तो ऐरावत पत्तों से बह जाऐंगे

समर शेष है, जनगंगा को खुल कर लहराने दो
शिखरों को डूबने और मुकुटों को बह जाने दो
पथरीली ऊँची जमीन है? तो उसको तोडेंगे
समतल पीटे बिना समर कि भूमि नहीं छोड़ेंगे

समर शेष है, चलो ज्योतियों के बरसाते तीर
खण्ड-खण्ड हो गिरे विषमता की काली जंजीर

समर शेष है, अभी मनुज भक्षी हुंकार रहे हैं
गांधी का पी रुधिर जवाहर पर फुंकार रहे हैं
समर शेष है, अहंकार इनका हरना बाकी है
वृक को दंतहीन, अहि को निर्विष करना बाकी है

समर शेष है, शपथ धर्म की लाना है वह काल
विचरें अभय देश में गाँधी और जवाहर लाल

तिमिर पुत्र ये दस्यु कहीं कोई दुष्काण्ड रचें ना
सावधान हो खडी देश भर में गाँधी की सेना
बलि देकर भी बलि! स्नेह का यह मृदु व्रत साधो रे
मंदिर औ' मस्जिद दोनों पर एक तार बाँधो रे

समर शेष है, नहीं पाप का भागी केवल व्याध
जो तटस्थ हैं, समय लिखेगा उनके भी अपराध   – रामधारी सिंह "दिनकर"